20 April 2020

छत्तीसगढ़ में मछली पालन की अभिनव पहल की शुरवात

छत्तीसगढ़ करंट अफेयर्स - छत्तीसगढ़ में अभिनव पहल से अनुपयोगी बंद पड़ी पत्थर खदानों में मछली पालन की अभिनव पहल से मछुआ समितियों की आय में होगी वृद्धि .



छत्तीसगढ़ में मत्स्य पालन को बढ़ावा देने तथा मछुआ सहकारी समितियों की आय में वृद्धि के उद्देश्य से मछली पालन विभाग द्वारा राज्य में अनुपयोगी एवं बंद पड़ी पत्थर खदानों में मछली पालन की पहल शुरू की गई है ।

अभिनव पहल राजनांदगांव से शुरुआत


मछली पालन विभाग ने इसकी कार्ययोजना को अमली रूप देते हुए विधिवत इसकी शुरुआत भी राजनांदगांव जिले के ग्राम पंचायत मुढ़ीपार के गांव मनगटा से कर दी है। मनगटा गांव में पत्थर की कई खदानें हैं, जो वर्षों से अनुपयोगी एवं बंद पड़ी हैं। 

इस गांव की तीन खदानों को जिसका कुल रकबा लगभग 3 हेक्टेयर है, पंजीकृत मछुआ सहकारी समिति बाबू नवागांव को 10 वर्षीय पट्टे पर मछली पालन के लिए दे दिया गया है। मछली विभाग द्वारा इन खदानों में मत्स्य बीज संचयन एवं मत्स्याखेट के लिए समिति को जाल भी उपलब्ध कराया गया है।

संचालक मछली पालन ने बताया कि निकट भविष्य में डीएमएफ और विभाग के माध्यम से इन खदानों में केज कल्चर की स्थापना की जाएगी, जिससे मत्स्य पालन केज कल्चर से मत्स्य उत्पादन और समितियों की आय में बढ़ोत्तरी होगी। इन खदानों के आसपास अनुपयोगी पड़ी भूमि में उद्यानिकी विभाग के सहयोग से फलदार एवं छायादार पौधों का भी रोपण किया जाएगा।

Topic:छत्तीसगढ़ करंट अफेयर्स
Month: करेंट अफेयर्स -अप्रैल, 2020
Categories: अर्थव्यवस्था करेंट अफेयर्स

31 March 2020

फरवरी, 2020 में आठ कोर उद्योगों की वृद्धि दर 5.5 प्रतिशत रही

Eight-core-industries-grew-by-5.5-percent-in-Feb-2020

आठ कोर उद्योगों का संयुक्‍त सूचकांक फरवरी, 2020 में 132.9 अंक रहा, जो फरवरी 2019 में दर्ज किए गए सूचकांक के मुकाबले 5.5 प्रतिशत अधिक है। दूसरे शब्‍दों में, फरवरी, 2020 में आठ कोर उद्योगों की वृद्धि दर 5.5 प्रतिशत आंकी गई है। वहीं, वर्ष 2019-20 की अप्रैल-फरवरी अवधि के दौरान आठ कोर उद्योगों की संचयी उत्‍पादन वृद्धि दर 1.0 प्रतिशत आंकी गई।

औद्योगिक उत्‍पादन सूचकांक (आईआईपी) में शामिल वस्तुओं के कुल भारांक (वेटेज) का 40.27 प्रतिशत हिस्सा आठ कोर उद्योगों में शामिल होता है। आठ कोर उद्योगों के सूचकांक (आधार वर्ष: 2011-12 =100) का सार अनुलग्‍नक में दिया गया है।

कोयला

फरवरी, 2020 में कोयला उत्‍पादन (भारांक: 10.33%) फरवरी, 2019 के मुकाबले 10.3 प्रतिशत बढ़ गया। वर्ष 2019-20 की अप्रैल-फरवरी अवधि के दौरान कोयला उत्‍पादन की वृद्धि दर पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 1.2 प्रतिशत कम रही। .

कच्‍चा तेल

फरवरी, 2020 के दौरान कच्‍चे तेल का उत्‍पादन (भारांक: 8.98%) फरवरी, 2019 की तुलना में 6.4 प्रतिशत गिर गया। वर्ष 2019-20 की अप्रैल-फरवरी अवधि के दौरान कच्‍चे तेल का उत्‍पादन बीते वित्‍त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 6.0 प्रतिशत कम रहा।

प्राकृतिक गैस

फरवरी, 2020 में प्राकृतिक गैस का उत्‍पादन (भारांक: 6.88%) फरवरी, 2019 के मुकाबले 9.6 प्रतिशत गिर गया। वर्ष 2019-20 की अप्रैल-फरवरी अवधि के दौरान प्राकृतिक गैस का उत्‍पादन पिछले वित्‍त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 4.8 प्रतिशत घट गया।

रिफाइनरी उत्‍पाद

पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्‍पादों का उत्‍पादन (भारांक: 28.04%) फरवरी, 2020 में 7.4 प्रतिशत बढ़ गया। वर्ष 2019-20 की अप्रैल-फरवरी अवधि के दौरान पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्‍पादों का उत्‍पादन पिछले वित्‍त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 0.3 प्रतिशत अधिक रहा।

उर्वरक

फरवरी, 2020 के दौरान उर्वरक उत्‍पादन (भारांक: 2.63%) 2.9 प्रतिशत बढ़ गया। वर्ष 2019-20 की अप्रैल-फरवरी अवधि के दौरान उर्वरक उत्‍पादन बीते वित्‍त वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 4.1 प्रतिशत अधिक रहा।

इस्‍पात

फरवरी, 2020 में इस्‍पात उत्‍पादन (भारांक: 17.92%) 0.4 प्रतिशत घट गया। वर्ष 2019-20 की अप्रैल-फरवरी अवधि के दौरान इस्‍पात उत्‍पादन पिछले वित्‍त वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 5.0 प्रतिशत ज्‍यादा रहा।

सीमेंट

फरवरी, 2020 के दौरान सीमेंट उत्‍पादन (भारांक: 5.37%) फरवरी, 2019 के मुकाबले 8.6 प्रतिशत अधिक रहा। वर्ष 2019-20 की अप्रैल-फरवरी अवधि के दौरान सीमेंट उत्‍पादन बीते वित्‍त वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 1.8 प्रतिशत ज्‍यादा रहा।

बिजली


फरवरी, 2020 के दौरान बिजली उत्‍पादन (भारांक: 19.85%) फरवरी, 2019 के मुकाबले 11.0 प्रतिशत बढ़ गया। वर्ष 2019-20 की अप्रैल-फरवरी अवधि के दौरान बिजली उत्‍पादन पिछले वित्‍त वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 1.8 प्रतिशत अधिक रहा।


नोट -

1: दिसंबर, 2019, जनवरी 2020 और फरवरी, 2020 के आंकड़े अनंतिम हैं।

2: अप्रैल, 2014 से ही बिजली उत्पादन के आंकड़ों में नवीकरणीय अथवा अक्षय स्रोतों से प्राप्त बिजली को भी शामिल किया जा रहा है।

3: ऊपर दिए गए उद्योग-वार भारांक दरअसल आईआईपी से प्राप्त अलग-अलग उद्योग भारांक हैं और इसे 100 के बराबर आईसीआई के संयुक्त भारांक में समानुपातिक आधार पर बढ़ा कर दिखाया गया है।

4: मार्च 2019 से ही तैयार इस्पात के उत्‍पादन के अंतर्गत ‘कोल्ड रोल्ड (सीआर) क्‍वायल्‍स’ मद के तहत हॉट रोल्ड पिकल्‍ड एंड ऑयल्‍ड (एचआरपीओ) नामक एक नए स्टील उत्पाद को भी शामिल किया जा रहा है।

5: मार्च 2020 के लिए सूचकांक गुरुवार, 30 अप्रैल, 2020 को जारी किया जाएगा।

PM-CARES फण्ड में प्रमुख कंपनियों द्वारा दी गयी सहयोग राशि की सूची

support-funds-given-by-major-companies-in-PM-CARES

PM-CARES FUNDहाल ही में COVID-19 से निपटने के लिए भारत सरकार ने PM-CARES फण्ड की स्थापना की है। उसके बाद से देश भर से लोग इस PM-CARES फण्ड में अपना सहयोग दे रहें हैं।PM-CARES फण्ड में प्रमुख कंपनियों द्वारा दी गयी सहयोग राशि की सूची दिया गया है .

PM-CARES में योगदान कैसे दें?

PM-CARES में योगदान देने लिए UPI का इस्तेमाल किया जा सकता है, PM-CARES की आधिकारिक UPI आईडी pmcares@sbi है। इसके अलावा PM-CARES के बैंक खाते में  NEFT, RTGS तथा नेट बैंकिंग के द्वारा सहयोग दिया जा सकता है। PM-CARES का आधिकारिक खाता नंबर  2121PM20202 है और इसका IFC कोड  SBIN0000691 है, यह खाता भारतीय स्टेट बैंक की नई दिल्ली की मुख्य शाखा में है।

प्रमुख सहयोग


  • टाटा समूह ने कोरोना वायरस का मुकाबला करने के लिए 1500 करोड़ रुपये की सहायता के लिए प्रतिबद्धता ज़ाहिर की है।
  • मुकेश अम्बानी के नेतृत्व में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने PM-CARES फण्ड में 500 करोड़ रुपये के योगदान की घोषणा की है।
  • लार्सेन एंड टुब्रो (L&T) ने इस फण्ड में 150 करोड़ रुपये के सहयोग की घोषणा की है
  • पतंजलि आयुर्वेद के संस्थापक स्वामी रामदेव ने PM-CARES फण्ड में 25 करोड़ रुपये के योगदान की घोषणा की है।
  • स्टार अभिनेता अक्षय कुमार ने इस फण्ड के लिए 25 करोड़ रुपये की घोषणा की है।
  • अदानी फाउंडेशन ने PM-CARES फण्ड में 100 करोड़ रुपये की घोषणा की है।
  • कोटक महिंद्रा बैंक ने PM-CARES फण्ड में 25 करोड़ रुपये का योगदान दिया है।
  • उदय कोटक ने व्यक्तिगत रूप से PM-CARES फण्ड में 25 करोड़ रुपये का योगदान दिया है।
  • JSW ग्रुप ने PM-CARES फण्ड में 100 करोड़ रुपये का योगदान दिया है।
  • भारतीय रेलवे ने PM-CARES फण्ड में 151 करोड़ रुपये का योगदान दिया है।
  • एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया ने PM-CARES फण्ड में 151 करोड़ रुपये का योगदान दिया है।
  • टी-सीरीज ने इस फण्ड के लिए 11 करोड़ रुपये के योगदान की घोषणा की है।
  • मोतीलाल ओसवाल ग्रुप ने इस फण्ड के लिए 5 करोड़ रुपये की घोषणा की है।
  • अभिनेता कार्तिक आर्यन ने PM-CARES में 1 करोड़ रुपये का योगदान दिया है।
  • अभिनेता वरुण धवन ने इस फण्ड के लिए 30 लाख रुपये प्रदान किये हैं।
  • क्रिकेटर सुरेश रैना ने इस फण्ड में 52 लाख रुपये का योगदान दिया है।
  • कपिल शर्मा ने PM-CARES में 50 लाख रुपये का योगदान दिया है।

असम सरकार एवं मध्य प्रदेश सरकार ने निर्माण श्रमिकों को वित्तीय सहायता प्रदान करने का लिया निर्णय

Assam-and-Madhya-Pradesh-gov-decided-to-provide-financial-assistance-to-construction-workers

लाक डाउन के चलते असम सरकार एवं मध्य प्रदेश सरकार ने निर्माण श्रमिकों को वित्तीय सहायता प्रदान करने का लिया निर्णय कहा की श्रमिको को हुवा नुकसान ।  

महत्वपूर्ण बिंदु 

असम सरकार ने 2.78 लाख निर्माण श्रमिकों  को 1-1 हजार रुपये प्रदान करने का निर्णय लिया है। गौरतलब है कि लॉकडाउन के कारण इन श्रमिकों को काफी नुकसान हुआ है। 

यह निर्णय असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और अन्य मंत्रियों की मौजूदगी में गुवाहाटी में हुई बैठक में लिया गया।

इस बैठक में अगले महीने की पहली तारीख से लगभग 58 लाख बीपीएल परिवारों को मुफ्त चावल देने का फैसला किया गया। इसके अलावा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम और राशन कार्ड के बिना गरीब परिवारों को 1 हजार रुपये की आर्थिक मदद दी जायेगी।

मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य के पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के खातों में लगभग 88 करोड़ रुपये स्थानांतरित किए हैं। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्माण श्रमिकों की पूर्ण सहायता का आश्वासन दिया।

देश में करोना वारस के कारण प्रदूषण में गिरावट दर्ज की गयी

देश-में-करोना-वारस-के-कारण-प्रदूषण-में-गिरावट-दर्ज-की-गयी

लॉकडाउन के चलते देश के बड़े शहरों में सुबह और शाम को पीक ऑवर में प्रदूषण में काफी कमी आई है। देश में COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए लगाए गए लॉक डाउन के कारण 2.5 माइक्रोन से कम आकार के पार्टिकुलेट मैटर में भारी कमी आई है।

मुख्य बाते

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट के अनुसार चेन्नई, बेंगलुरु, मुंबई, कोलकाता और हैदराबाद जैसे बड़े शहरों में प्रदूषण के स्तर में कमी आई है। इस केंद्र के अनुसार पीक ऑवर में प्रदूषण का स्तर कई शहरों में 60% कम हो गया है।

दिल्ली वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘खतरनाक’ से ‘गुड’ में बदल गया। दिल्ली में PM 2.5 की सांद्रता के स्तर में 57% की गिरावट आई है, जबकि नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के स्तर में 64% की गिरावट आई है। SAFAR के अनुसार दिल्ली में कुल कण प्रदूषण के 40% तक योगदान वाहनों का होता है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार देश के लगभग 92 शहरों में प्रदूषण का स्तर “संतोषजनक” से बेहतर हो कर “अच्छा” दर्ज किया गया है।

वायु गुणवत्ता सूचकांक के 100 और 200 के बीच होने पर प्रदूषण के स्तर को ‘मध्यम’ कहा जाता है। AQI 50 और 100 के बीच होने पर यह ‘संतोषजनक’ माना जाता है। AQI 0 और 50 के बीच होने पर प्रदूषण स्तर को ‘अच्छा’ माना जाता है। अन्य खराब श्रेणियां हैं : खराब( 201-300), बहुत खराब (301-400) और गंभीर (401-500)।

छत्तीसगढ सरकाऱ ने संकटग्रस्त मजदूरों की सहायता के लिए जारी किए 3.80 करोड़ रूपए

  छत्तीसगढ-सरकाऱ-ने-संकटग्रस्त-मजदूरों-की-सहायता-लिए-जारी-किए-करोड़-रूपए

छत्तीसगढ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देश पर राज्य शासन के श्रम विभाग द्वारा संकटग्रस्त और जरूर मद श्रमिकों की सहायता के लिए 3 करोड़ 80 लाख रूपए की राशि जारी की गई है। यह राशि छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निमार्ण कर्मकार कल्याण मण्डल द्वारा प्रदेश के सभी जिलों को जारी की गई है।

मुख्य बिंदु   :-

इस राशि का उपयोग नोेवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) से उत्पन्न परिस्थितियों में छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निमार्ण कर्मकार कल्याण मण्डल के संकटग्रस्त और जरूरतमंद पंजीकृत श्रमिकों को तत्कालिक सहायता जैसे उनके भोजन, अस्थायी रूप से ठहरने की व्यवस्था, चिकित्सा, परिवहन, दुर्घटना आदि में आवश्यकतानुसार उन्हें सहुलियत प्रदान करने में किया जाएगा।

मण्डल द्वारा जारी राशि में रायपुर, बलौदा-बजार, बिलासपुर, महासमुन्द, कोरबा, जांजगीर-चांपा, रायगढ़, बस्तर, सरगुजा, दुर्ग और राजनांदगांव के सहायक श्रमायुक्त को 20-20 लाख रूपए जारी किया गया है। 

इसी तरह गरियाबंद, धमतरी, मुंगेली, कोण्डागांव, कांकेर, दंतेवाड़ा, सुकमा, नारायणपुर, बीजापुर, सूरजपुर, बलरामपुर, कोरिया, जशपुर, बालोद, बेमेतरा और कवर्धा के श्रम पदाधिकारी को 10-10 लाख रूपए की राशि जारी की गई है।

22 March 2020

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 5.69 अरब डॉलर की गिरावट के साथ 481.89 अरब डॉलर पहुँच गया है

India-foreign-exchange-reserves-declined,भारत का विदेशी मुद्रा भंडार

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार


13 मार्च, 2020 को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 5.69 अरब डॉलर की गिरावट के साथ 481.89 अरब डॉलर तक पहुँच गया है। गौरतलब है कि पिछले 6 महीनों में पहली बार भरता के विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट दर्ज की गयी है है। विश्व में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा भंडार वाले देशों की सूची में भारत 8वें स्थान पर है, इस सूची में चीन पहले स्थान पर है।

विदेशी मुद्रा भंडार

इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों , सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।

13 मार्च, 2020 को विदेशी मुद्रा भंडार

विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए): $447.36 बिलियन
गोल्ड रिजर्व: $ 29.47 बिलियन
आईएमएफ के साथ एसडीआर: $ 1.45 बिलियन
आईएमएफ के साथ रिजर्व की स्थिति: $ 3.69 बिलियन


Month: करेंट अफेयर्स - मार्च, 2020

Categories: अर्थव्यवस्था करेंट अफेयर्स

भारतीय पर्वतारोही सत्यरूप सिद्धान्त का नाम ‘लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स’ में शामिल हो गया है

ndian-mountaineer-Satyarup-Siddhant-has-joined-the-Limca-Book-of-Records,भारतीय पर्वतारोही सत्यरूप सिद्धान्त का नाम ‘लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स’ में शामिल


पहले भारतीय बनने का रिकॉर्ड  

भारतीय पर्वतारोही सत्यरूप सिद्धान्त का नाम ‘लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स’ में शामिल हो गया है। उन्होंने सभी विश्व के 7 महाद्वीपों में सबसे ऊँचे ज्वालामुखी पर चढ़ाई करने वाले पहले भारतीय बनने का रिकॉर्ड बनाया है।

सत्यरूप सिद्धान्त ने जनवरी, 2019 में दुनिया के 7 महाद्वीपों के सभी सर्वोच्च शिखर पर चढ़ने का रिकॉर्ड हासिल किया था। उनके पास पहले से ही गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, ब्रिटिश बुक ऑफ रिकॉर्ड्स और चैंपियन बुक ऑफ रिकॉर्ड्स हैं।

सत्यरूप सिद्धान्त ने 7 महाद्वीपों के निम्नलिखित उच्चतम ज्वालामुखियों पर सफलतापूर्वक चढ़ाई की है


1. माउंट किलिमंजारो, अफ्रीका (5,895 मीटर)
2. माउंट एल्ब्रस, यूरोप (5,642 मीटर)
3. माउंट पिको डी ओरीज़ाबा, उत्तरी अमेरिका (5,636 मीटर)
4. माउंट गिलुवे, ऑस्ट्रेलिया (4,367 मीटर)
5. माउंट सिडली, अंटार्कटिका (4,285 मीटर)
6. माउंट ओजोस डेल सालाडो, दक्षिण अमेरिका (6,893 मीटर)
7. माउंट दमावंद, एशिया (5,610 मीटर)


लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स

लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स को वर्ल्ड गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स के बाद दूसरे स्थान पर माना जाता है। इसमें भारत के अंदर और अन्य देशों में भारतीयों द्वारा की गई उपलब्धियां शामिल की जाती हैं


Month: करेंट अफेयर्स - मार्च, 2020

Categories: व्यक्तिविशेष करेंट अफेयर्स

21 March 2020

अमेरिका ने किया परमाणु सक्षम हाइपरसोनिक मिसाइलों का सफल परीक्षण

अमेरिका ने हाइपरसोनिक परमाणु सक्षम मिसाइल का परीक्षण किया


20 मार्च, 2020 को अमेरिका ने परमाणु सक्षम हाइपरसोनिक मिसाइलों का सफल परीक्षण किया। दरअसल रूस ने दिसंबर 2019 में एक हाइपरसोनिक हथियार का परीक्षण किया था और चीन ने पहले ही अपने DF-17 हाइपरसोनिक ग्लाइड व्हीकल को प्रदर्शित कर चुका है।

 इस ग्लाइड व्हीकल ध्वनि की गति से पांच गुना अधिक तेज़ थी।अमेरिका एंटी बैलिस्टिक मिसाइल संधि से पीछे हट गया है। इसके बाद अब अमेरिका रूसी तट से दूर यूरोप और एशिया में परीक्षण कर सकता है।

हाइपरसोनिक और बैलिस्टिक मिसाइल में अंतर हाइपरसोनिक मिसाइलों के प्रक्षेपवक्र को ट्रेस नही किया जा सकता। जबकि बैलिस्टिक मिसाइलों के प्रक्षेप पथ को ट्रेस किया जा सकता है।

हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइल के प्रक्षेपवक्र (trajectory) को पृथ्वी की सतह से 20 से 30 किमी की दूरी पर रखा जाता है और हाइपरसोनिक ग्लाइडर प्रक्षेपवक्र को 40 से 100 किमी की दूरी पर रखा जाता है।

संयुक्त राष्ट्र ने अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्नता दिवस पर विश्व खुशहाली रिपोर्ट जारी की भारत को 144वां स्थान प्राप्त हुआ

संयुक्त राष्ट्र ने अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्नता दिवस पर विश्व खुशहाली रिपोर्ट जारी की भारत को 144वां स्थान प्राप्त हुआ,India-Rank-In-World-Happiness-Report-2020

संयुक्त राष्ट्र ने अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्नता दिवस पर विश्व खुशहाली रिपोर्ट जारी की। इस रिपोर्ट में फ़िनलैंड ने पहला स्थान हासिल किया है, जबकि भारत को 144वां स्थान प्राप्त हुआ है।

इस रैंकिंग के तहत लगभग 156 देशों का मूल्यांकन किया गया है। यह संयुक्त राष्ट्र द्वारा तैयार की गई आठवीं विश्व खुशहाली रिपोर्ट है।  इस वर्ष की रिपोर्ट में पर्यावरण के लिए एक विशेष भूमिका दी है और लोगों की खुशी को उनके पर्यावरण से जोड़ा है।

पर्यावरण के अलावा, रिपोर्ट शहरी, सामाजिक और अन्य प्राकृतिक कारकों को भी मध्यनजर रखा गया है।फिनलैंड के बाद डेनमार्क और स्विट्जरलैंड क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे। फिनलैंड लगातार तीसरी बार प्रथम स्थान पर रहा। इस रिपोर्ट में अफगानिस्तान सबसे निचले स्थान पर रहा।

इस रिपोर्ट में अमेरिका को 18वां स्थान प्राप्त हुआ था। इसमें यूनाइटेड किंगडम को 13 वां स्थान प्राप्त हुआ है।