31 March 2020

देश में करोना वारस के कारण प्रदूषण में गिरावट दर्ज की गयी

देश-में-करोना-वारस-के-कारण-प्रदूषण-में-गिरावट-दर्ज-की-गयी

लॉकडाउन के चलते देश के बड़े शहरों में सुबह और शाम को पीक ऑवर में प्रदूषण में काफी कमी आई है। देश में COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए लगाए गए लॉक डाउन के कारण 2.5 माइक्रोन से कम आकार के पार्टिकुलेट मैटर में भारी कमी आई है।

मुख्य बाते

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट के अनुसार चेन्नई, बेंगलुरु, मुंबई, कोलकाता और हैदराबाद जैसे बड़े शहरों में प्रदूषण के स्तर में कमी आई है। इस केंद्र के अनुसार पीक ऑवर में प्रदूषण का स्तर कई शहरों में 60% कम हो गया है।

दिल्ली वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘खतरनाक’ से ‘गुड’ में बदल गया। दिल्ली में PM 2.5 की सांद्रता के स्तर में 57% की गिरावट आई है, जबकि नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के स्तर में 64% की गिरावट आई है। SAFAR के अनुसार दिल्ली में कुल कण प्रदूषण के 40% तक योगदान वाहनों का होता है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार देश के लगभग 92 शहरों में प्रदूषण का स्तर “संतोषजनक” से बेहतर हो कर “अच्छा” दर्ज किया गया है।

वायु गुणवत्ता सूचकांक के 100 और 200 के बीच होने पर प्रदूषण के स्तर को ‘मध्यम’ कहा जाता है। AQI 50 और 100 के बीच होने पर यह ‘संतोषजनक’ माना जाता है। AQI 0 और 50 के बीच होने पर प्रदूषण स्तर को ‘अच्छा’ माना जाता है। अन्य खराब श्रेणियां हैं : खराब( 201-300), बहुत खराब (301-400) और गंभीर (401-500)।


EmoticonEmoticon